Latest News

फेक न्यूज रोकने के लिए गूगल पत्रकारों को वेरिफिकेशन, फैक्ट चेकिंग की ट्रेनिंग देगा

Yamini Saini
  • ट्रेनिंग प्रोग्राम 26 फरवरी से शुरू होगा और 6 अप्रैल तक चलेगा
  • देश के 30 शहरों में अंग्रेजी, हिन्दी, मलयालम समेत 10 भाषाओं के पत्रकारों को ट्रेनिंग दी जाएगी

गैजेट डेस्क.  चुनाव के दौरान फेक न्यूज के प्रचार-प्रसार पर लगाम लगाने के लिए गूगल लगातार कोशिश कर रही है। कंपनी ने घोषणा की है कि आगामी 40 दिनों तक वह देश के विभिन्न शहरों में पत्रकारों को ऑनलाइन वेरिफिकेशन, फैक्ट चेकिंग, डिजिटल सेफ्टी, सिक्युरिटी, यूट्यूब और डेटा विजुअलाइजेशन की ट्रेनिंग देगा। इसके लिए गूगल न्यूज इनीशिएटिव ने डेटालीड्स और इंटरन्यूज के साथ साझेदारी की है।

26 फरवरी से शुरू होगा प्रोग्राम: ट्रेनिंग प्रोग्राम 26 फरवरी से शुरू होगा और 6 अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान देश के 30 शहरों में अंग्रेजी, हिन्दी, मलयालम, बांग्ला, कन्नड़, गुजराती, उड़िया, तमिल, तेलुगु और मराठी भाषा के पत्रकारों को ट्रेनिंग दी जाएगी। गूगल ने एक प्रेस रिलीज जारी करके यह जानकारी शेयर की। इस ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए किसी मीडिया संस्थान से जुड़े पत्रकारों के साथ-साथ फ्रीलांसिंग करने वाले भी आवेदन कर सकते हैं। ट्रेनिंग प्रोग्राम की शुरुआत दिल्ली एनसीआर से होगी।

10,000 पत्रकारों को ट्रेनिंग देने का लक्ष्य: 2016 से गूगल ने 40 शहरों में 200 न्यूज कंपनियों में काम करने वाले 13,000 से अधिक भारतीय पत्रकारों को ट्रेनिंग दी है। ऑनलाइन वेरिफिकेशन और फैक्ट चेकिंग के लिए पिछले साल टेक कंपनी ने 'गूगल न्यूज इनीशिएटिव इंडिया ट्रेनिंग नेटवर्क' की शुरुआत की थी। इस प्रोग्राम के तहत पिछले 6 महीने में गूगल ने 7 भाषाओं में 40 शहरों के 5,260 पत्रकारों को ट्रेनिंग दी गई है। गूगल 2019 के दौरान 10,000 पत्रकारों को ट्रेनिंग देने की योजना बना रहा है।

Related News you may like

Article

Side Ad