Latest News

दसवीं फेल भंवरलाल ठगी के भंवर में फंसे दर्जनों लोग

Yamini Saini

जोधपुर के शास्त्री नगर थाने में पुलिस कस्टडी में खड़ा यह युवक भंवरलाल ज्यादा पढ़ा लिखा नहीं है. दसवीं फेल है लेकिन इसके कारनामे सुनकर आप चौंक जाएंगे.

दिमाग ही इंसान को अच्छा या बुरा बनाता है. ऐसी भी मिसालें हैं कि पढ़े लिखे लोगों ने फाकाकशी में दिन बिताए. दो जून की रोटी नसीब नहीं हुई तो न सही, लेकिन गलत काम नहीं किया. दूसरी तरफ ऐसे भी लोग हैं जिन्होंने अपने शातिर दिमाग का इस्तेमाल कर कमाई की, फिर चाहे रास्ता गलत हो या जुर्म करना पड़ा. ऐसे लोग कुछ समय के लिए तो सफल हो जाते हैं, लेकिन एक न एक दिन उनका भांडा फूटता ही है. ऐसी ही कहानी है जोधपुर के भंवरलाल जाट की.

दसवीं फेल है भंवरलाल
जोधपुर के शास्त्री नगर थाने में पुलिस कस्टडी में खड़ा यह युवक भंवरलाल ज्यादा पढ़ा लिखा नहीं है. दसवीं फेल है लेकिन इसके कारनामे जिसने भी सुने, वही चौंक गया. भंवरलाल ने अपने शातिर दिमाग का इस्तेमाल करके एक या दो नहीं, बल्कि तीन से चार दर्जन लोगों को बेवकूफ बनाकर उनसे लाखों रुपए ठग लिए.

भंवरलाल ने ऐसे शुरू किया ठगी का खेल
करीब साल भर पहले बाड़मेर जिले के गिड़ा इलाके के सवाऊ पदमसिंह निवासी रमेश मेघवाल की मुलाकात भंवरलाल जाट से हुई. पढ़ाई लिखाई का मोह छोड़ चुके भंवरलाल ने अपनी स्मार्ट बॉडी लैंग्वेज से रमेश को प्रभावित करते हुए कहा वह एक फाइनेंस कंपनी में काम करता है. इसमें न्यूनतम खर्च के बदले अधिकतम लोन दिया जाता है. रमेश जल्द ही पूरी तरह से उसके झांसे में आ गया. तब भंवरलाल ने उसे अपना एजेंट नियुक्त कर दिया. भंवरलाल ने शास्त्री नगर में अपना कार्यालय खोल रखा था.

फिर शुरू हुआ उगाही का खेल
रमेश को एजेंट नियुक्त करने के बाद भंवरलाल ने उसे तरह-तरह के झांसे देकर लोगों से उगाही करने में लगा दिया. इस कार्य के लिए उसने लोन की प्रोसेस फीस के नाम पर लोगों से रकम जुटानी शुरू की. पीड़ितों की मानें तो दस हजार रुपयों पर एक लाख रुपए के लोन का झांसा देकर उसने करीब चार दर्जन लोगों से 10,000 से लेकर 80-90,000 रुपये तक ठग लिए. रकम के बदले पीड़ितों को प्रोसेस फीस प्राप्ति की रसीदें भी दी गईं. करीब चार दर्जन लोगों से भंवरलाल ने रमेश मेघवाल के जरिए 17,89,000 रुपए जमा कर लिए.

लोन न मिलने पर लोगों ने बनाया दबाव
करीब एक साल पहले रुपये जमा कर चुके लोगों को जब लोन नहीं मिला तो उन्होंने रमेश पर दबाव बनाना शुरू किया. रमेश ने भंवरलाल पर दबाव बनाया, लेकिन उसे कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला. रमेश सोमवार को सभी पीड़ितों को लेकर जोधपुर पहुंचा तो भंवरलाल ने बाहर होने की बात कही. इस पर सभी लोग शास्त्रीनगर थाने पहुंचे और थानाप्रभारी रमेश कुमार को आपबीती बताई.

पीड़ितों ने की रेकी
पुलिस ने पीड़ितों की आपबीती सुनने के बाद सहयोग का आश्वासन दिया. साथ ही पुलिस ने पीड़ितों से भंवरलाल को दबोचने के लिए सहयोग भी मांगा. पीड़ितों ने भंवरलाल की रेकी की तो पता चला कि वह शास्त्री नगर इलाके में स्थित अपने किराए के घर में छुपा हुआ था. पुलिस पीड़ितों के साथ वहां पहुंची और भंवरलाल को दबोच लिया. फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है. मामले में और भी पीड़ितों के सामने आने की आशंका है.

भंवरलाल की ठगी के सबूत के तौर पर रसीदें दिखाते पीड़ित. 
 
पुलिस अभी खुलकर इस मामले पर कुछ नहीं बोल रही है. थानाप्रभारी रमेश कुमार का कहना है शिकायत पर भंवरलाल पकड़ा गया है और मामले को समझने के लिए उससे पूछताछ की जा रही है.

Related News you may like

Article

Side Ad