Latest News

रेलवे ने तीन ग्रेड के कर्मचारियों का भत्ता किया दोगुना

Yamini Saini

भारतीय रेल ने कर्मचारी संगठनों की बेहद पुरानी मांग को मान लिया है. 

नई दिल्लीः रेलवे ने गार्ड, लोको पायलट, सहायक लोको पायलट का रनिंग भत्ता दोगुना कर दिया है. भारतीय रेल ने कर्मचारी संगठनों की बेहद पुरानी मांग को स्वीकार करते हुए गार्ड, लोको पायलट और सहायक लोको पायलट को मिल रहे रनिंग भत्ते को दोगुना करके 520 रुपए प्रतिदिन कर दिया है. हालांकि, इससे रेलवे के सालाना भत्ते पर 1,225 करोड़ रुपए का अतिरिक्त बोझ आएगा.

बढ़ा परिचालन अनुपात
नवंबर 2018 में भारतीय रेल का परिचालन अनुपात सर्वाधिक 117.05 प्रतिशत पर पहुंच गया. इसका मतलब है कि भारतीय रेल को प्रति सौ रुपये कमाने के लिए 117.05 रुपए खर्च करने पड़े. रेल परिचालन में मदद करने वाले लोको पायलट, सहायक लोको पायलट तथा गार्ड को रेलवे का ‘रनिंग स्टॉफ’ कहा जाता है. अभी तक इन्हें प्रति सौ किलोमीटर चलने पर करीब 255 रुपए की दर से ‘रनिंग भत्ता’ दिया जाता है, जिसे बढ़ाकर अब करीब 520 रुपए कर दिया गया है.

बढ़ेगा रेलवे का बोझ
भत्ते की इस वृद्धि से मौजूदा खर्च 1,150 करोड़ रुपए से बढ़कर करीब 2,375 करोड़ रुपए पहुंच सकता है. संशोधित दरों को अब मंजूरी के लिए वित्त मंत्रालय के पास भेजा जाएगा. रनिंग कर्मचारी पिछले चार साल से भत्ता बढ़ाने की मांग कर रहे थे. इससे पहले अन्य कर्मचारियों का भत्ता एक जुलाई 2017 को ही बढ़ा दिया गया था लेकिन रनिंग कर्मचारियों की मांग लंबित थी. 

Related News you may like

Article

Side Ad